Saturday, June 6, 2020
Home Tech News Short stories in hindi- 7 Hindi short stories with moral for kids...

Short stories in hindi- 7 Hindi short stories with moral for kids – छोटे बच्चों के लिए

Short stories in hindi- 7 Hindi short stories with moral for kids – छोटे बच्चों के लिए
हेल्लो बच्चों कैसे हो आप सब आज हम आपके लिए Short Stories in hindi लेकर आया हूँ जिसमे स्टोरी के साथ साथ उसका मोरल भी देखने को मिलेगा तो स्टोरी को ध्यान से पढियेगा और मज़ा आये तो हमे कमेन्ट जरुर करियेगा और साथ ही ऐसी ही और मजेदार स्टोरी के लिए हमारे इस न्यूज़ पोर्टल को सब्सक्राइब जरुर करें.

7 Hindi short stories with moral for kids – छोटे बच्चों के लिए

Short stories in hindi- 7 Hindi short stories with moral for kids - छोटे बच्चों के लिए
Short stories in hindi- 7 Hindi short stories with moral for kids – छोटे बच्चों के लिए

कैसे आया जूता

एक बार की बात है एक राजा था। उसका एक बड़ा-सा राज्य था। एक दिन उसे देश घूमने का विचार आया और उसने देश भ्रमण की योजना बनाई और घूमने निकल पड़ा। जब वह यात्रा से लौट कर अपने महल आया। उसने अपने मंत्रियों से पैरों में दर्द होने की शिकायत की। राजा का कहना था कि मार्ग में जो कंकड़ पत्थर थे वे मेरे पैरों में चुभ गए और इसके लिए कुछ इंतजाम करना चाहिए।
कुछ देर विचार करने के बाद उसने अपने सैनिकों व मंत्रियों को आदेश दिया कि देश की संपूर्ण सड़कें चमड़े से ढंक दी जाएं। राजा का ऐसा आदेश सुनकर सब सकते में आ गए। लेकिन किसी ने भी मना करने की हिम्मत नहीं दिखाई। यह तो निश्चित ही था कि इस काम के लिए बहुत सारे रुपए की जरूरत थी। लेकिन फिर भी किसी ने कुछ नहीं कहा। कुछ देर बाद राजा के एक बुद्घिमान मंत्री ने एक युक्ति निकाली। उसने राजा के पास जाकर डरते हुए कहा कि मैं आपको एक सुझाव देना चाहता हूँ।
अगर आप इतने रुपयों को अनावश्यक रूप से बर्बाद न करना चाहें तो एक अच्छी तरकीब मेरे पास है। जिससे आपका काम भी हो जाएगा और अनावश्यक रुपयों की बर्बादी भी बच जाएगी। राजा आश्चर्यचकित था क्योंकि पहली बार किसी ने उसकी आज्ञा न मानने की बात कही थी। उसने कहा बताओ क्या सुझाव है। मंत्री ने कहा कि पूरे देश की सड़कों को चमड़े से ढंकने के बजाय आप चमड़े के एक टुकड़े का उपयोग कर अपने पैरों को ही क्यों नहीं ढंक लेते। राजा ने अचरज की दृष्टि से मंत्री को देखा और उसके सुझाव को मानते हुए अपने लिए जूता बनवाने का आदेश दे दिया।

मोरल:-यह कहानी हमें एक महत्वपूर्ण पाठ सिखाती है कि हमेशा ऐसे हल के बारे में सोचना चाहिए जो ज्यादा उपयोगी हो। जल्दबाजी में अप्रायोगिक हल सोचना बुद्धिमानी नहीं है। दूसरों के साथ बातचीत से भी अच्छे हल निकाले जा सकते हैं।

चिड़िया ने राजा को सिखाई 4 ज्ञान की बात, फिर कहा मेरे पेट में दो हीरे हैं, तो…

एक राजा के विशाल महल में एक सुंदर वाटिका थी, जिसमें अंगूरों की एक बेल लगी थी। वहां रोज एक चिड़िया आती और मीठे अंगूर चुन-चुनकर खा जाती और अधपके और खट्टे अंगूरों को नीचे गिरा देती।

माली ने चिड़िया को पकड़ने की बहुत कोशिश की पर वह हाथ नहीं आई। हताश होकर एक दिन माली ने राजा को यह बात बताई। यह सुनकर भानुप्रताप को आश्चर्य हुआ। उसने चिड़िया को सबक सिखाने की ठान ली और वाटिका में छिपकर बैठ गया।

जब चिड़िया अंगूर खाने आई तो राजा ने तेजी दिखाते हुए उसे पकड़ लिया। जब राजा चिड़िया को मारने लगा, तो चिड़िया ने कहा, ‘हे राजन, मुझे मत मारो। मैं आपको ज्ञान की 4 महत्वपूर्ण बातें बताऊंगी।’ राजा ने कहा, ‘जल्दी बता।’

चिड़िया बोली, ‘हे राजन, सबसे पहले, तो हाथ में आए शत्रु को कभी मत छोड़ो।’ राजा ने कहा, ‘दूसरी बात बता।’ चिड़िया ने कहा, ‘असंभव बात पर भूलकर भी विश्वास मत करो और तीसरी बात यह है कि बीती बातों पर कभी पश्चाताप मत करो।’

राजा ने कहा, ‘अब चौथी बात भी जल्दी बता दो।’ इस पर चिड़िया बोली, ‘चौथी बात बड़ी गूढ़ और रहस्यमयी है। मुझे जरा ढीला छोड़ दें क्योंकि मेरा दम घुट रहा है। कुछ सांस लेकर ही बता सकूंगी।’ चिड़िया की बात सुन जैसे ही राजा ने अपना हाथ ढीला किया, चिड़िया उड़कर एक डाल पर बैठ गई और बोली, ‘मेरे पेट में दो हीरे हैं।’

यह सुनकर राजा पश्चाताप में डूब गया। राजा की हालत देख चिड़िया बोली, ‘हे राजन, ज्ञान की बात सुनने और पढ़ने से कुछ लाभ नहीं होता, उस पर अमल करने से होता है। आपने मेरी बात नहीं मानी।

मैं आपकी शत्रु थी, फिर भी आपने पकड़कर मुझे छोड़ दिया। मैंने यह असंभव बात कही कि मेरे पेट में दो हीरे हैं फिर भी आपने उस पर भरोसा कर लिया। आपके हाथ में वे काल्पनिक हीरे नहीं आए, तो आप पछताने लगे।

मोरल- उपदेशों को जीवन में उतारे बगैर उनका कोई मोल नहीं।

नन्हीं चिड़िया – Short stories in hindi

बहुत समय पुरानी बात है, एक बहुत घना जंगल हुआ करता था| एक बार किन्हीं कारणों से पूरे जंगल में भीषण आग लग गयी| सभी जानवर देख के डर रहे थे की अब क्या होगा??

थोड़ी ही देर में जंगल में भगदड़ मच गयी सभी जानवर इधर से उधर भाग रहे थे पूरा जंगल अपनी अपनी जान बचाने में लगा हुआ था| उस जंगल में एक नन्हीं चिड़िया रहा करती थी उसने देखा क़ि सभी लोग भयभीत हैं जंगल में आग लगी है मुझे लोगों की मदद करनी चाहिए|

यही सोचकर वह जल्दी ही पास की नदी में गयी और चोच में पानी भरकर लाई और आग में डालने लगी| वह बार बार नदी में जाती और चोच में पानी डालती| पास से ही एक उल्लू गुजर रहा था उसने चिड़िया की इस हरकत को देखा और मन ही मन सोचने लगा बोला क़ि ये चिड़िया कितनी मूर्ख है इतनी भीषण आग को ये चोंच में पानी भरकर कैसे बुझा सकती है|

यही सोचकर वह चिड़िया के पास गया और बोला कि तुम मूर्ख हो इस तरह से आग नहीं बुझाई जा सकती है|

चिड़िया ने बहुत विनम्रता के साथ उत्तर दिया-“मुझे पता है कि मेरे इस प्रयास से कुछ नहीं होगा लेकिन मुझे अपनी तरफ से best करना है, आग कितनी भी भयंकर हो लेकिन मैं अपना प्रयास नहीं छोड़ूँगी”.उल्लू यह सुनकर बहुत प्रभावित हुआ|

मोरल:-तो मित्रों यही बात हमारे जीवन पर भी लागू होती है| जब कोई परेशानी आती है तो इंसान घबराकर हार मान लेता है लेकिन हमें बिना डरे प्रयास करते रहना चाहिए यही इस कहानी की शिक्षा है|

झूठ का महल-Short stories in hindi

एक राजा के दरबार में एक कारीगर सालों से काम करता था| उसने राजा के लिए कई बेशकीमती महलों का निर्माण किया और बहुत सारा धन अर्जित कर लिया| एक दिन उसके मन में विचार आया, कि अब मैंने इतना धन इक्कठा कर लिया है की अब में अपनी बाकि बची हुई ज़िन्दगी आराम से गुज़ार सकता हूँ| क्यों ना अब में राजा के लिए कारीगरी का काम छोड़ कर अपनी बाकि ज़िन्दगी एशो-आराम से जिऊ!

यही सब सोच कर वह राजा के महल में पहुंचा और उसने राजा से अपने मन की बात कही| राजा ने कारीगर की पूरी बात बड़े ध्यान से सुनी और कारीगर से कहा, “तुमने हमारे लिए कई बेशकीमती महलों का निर्माण किया है…हमारे राज्य में तुम जैसे कुशल कारीगरों की बहुत आवश्यकता है| लेकिन जैसा की तुमने बताया कि अब तुम यह काम नहीं करना चाहते, हम तुम्हें स-सम्मान जाने की इज़ाज़त देतें हैं| लेकिन हमारी बड़ी दिली तम्मना थी, कि हम रानी के लिए एक सुन्दर से महल का निर्माण करवाएं| अगर तुम हमारे लिए उस महल का निर्माण कर सको तो हमें बड़ी ख़ुशी होगी|

झूठ का महल-Short stories in hindi

कारीगर ने सोचा, मैंने अपनी पूरी ज़िन्दगी राजा की सेवा की है, अगर में इस महल का निर्माण नहीं करूँगा तो राजा मुझसे नाराज हो जाएगा| इसलिए कारीगर ने महल बनाने के लिए हाँ कर दी और महल के निर्माण में जुट गया|

काम करते-करते अचानक उसके मन में विचार आया की क्यों ना जल्दी से इस महल का निर्माण करके में विदेश यात्रा पर निकल जाऊ| बस फिर क्या था, कारीगर ने जल्दी काम ख़तम करने के चक्कर में भुसभूसी दीवालें खडी कर दी| दीवालों पर ऊपर से सीमेंट की परत चढ़ती गई और अन्दर से खोखली| अन्दर से खोखला, परन्तु ऊपर से सोने जैसी चमक-दमक वाला महल जब बन कर तैयार हुआ कारीगर फटाफट राजा की सेवा में उपस्थित हुआ और बोला “महाराज, महल तैयार है|

अगले दिन राजा महल का निरिक्षण करने आया| महल वास्तव में बहुत ही आकर्षक और सुन्दर दिखाई पड रहा था| राजा ने कारीगर की बहुत प्रशंसा की और बोला, में तुम्हारे काम से बहुत प्रसन्न हूँ…और सोच रहा हूँ क्यों ना यह महल तुम्हें ही पुरुस्कार में दे दूँ| इतना कह कर राजा ने वह महल उस कारीगर को पुरुस्कार में दे दिया और वहां से चला गया|

राजा के जाने के बाद, कारीगर अपने किए पर बहुत पछताया और मुह छिपा कर रोने लगा|

मोरल:-कहानी का तर्क यही है, कि जो दूसरों के लिए गड्डा खोदता है सबसे पहले वही उस गड्डे में गिर जाता है| जो झूठ फरेब का महल खड़ा करता है, उसी के हिस्से में वह पड़ता है|

आवाज की गूंज – Short stories in hindi

एक बच्चा अपने पापा के साथ पिकनिक मनाने गया। गर्मियों की छुट्टियां थीं तो सोचा क्यों ना कुछ समय प्रकृति के नजदीक शांति में गुजारा जाये। यही सोचकर उन्होंने कहीं पहाड़ों पे घूमने का प्लान बनाया। सामान पैक करके पिता और पुत्र दोनों पिकनिक के लिए निकल पड़े।

पर्वतों का नजारा बहुत ही शानदार था चारों ओर खुला आसमान और हरियाली थी। बच्चा एक छोटी पहाड़ी पर चढ़ने का प्रयास करने लगा, जैसे ही वो थोड़ा आगे चढ़ा उसका पाँव थोड़ा फिसला और एक पथ्थर से उसके पैर में हल्की सी चोट लग गयी और मुँह से तेज आवाज निकली – “आआह”

अब उसकी ये आवाज गूंज की वजह से वापस उसे सुनाई पड़ी -“आआह”, बच्चे को बड़ा आश्चर्य हुआ कि ये कौन बोला? वो फिर से जोर से बोला – “कौन है?” फिर से आवाज गूंज कर वापस आई “कौन है?”

बच्चे ने उत्सुकतावश फिर चिल्लाया – “कौन हो तुम?” फिर आवाज वापस सुनाई दी – “कौन हो तुम?”

बच्चे ने अपने पिता से इसके बारे में पूछा तो पिता ने बच्चे से सर पर प्यार से हाथ फेरा और जोर से चिल्लाये – “तुम कायर हो ?” फिर से आवाज सुनाई दी – “तुम कायर हो ?” पिता ने मुस्कुरा कर फिर जोर से बोला – “तुम साहसी हो तुम विजेता हो” आवाज वापस सुनाई दी – “तुम साहसी हो तुम विजेता हो”

पिता ने बच्चे को समझाया कि ये आवाज तुम्हारी ही है जो पहाड़ो टकराकर तुमको वापस सुनाई दे रही है, यही जीवन है हम जो बोलते हैं, हम जो सोचते हैं वही हमें वापस मिलता है।

इस आवाज की तरह ही हमारा भविष्य है, हमने जो आज किया वही हमको कल वापस मिलेगा। तुम दूसरों के प्रति मन में इज्जत रखोगे तो वही तुमको वापस मिलेगी।

मोरल:-तुम अगर मन में सोच लो कि तुम कायर हो, तुम कुछ नहीं कर सकते तो तुम वैसे ही बन जाओगे। तुम सोचोगे कि तुम विजेता हो तो तुम वैसे ही बन जाओगे।

moral stories in hindi for class 7

Short Hindi Stories with Moral values 

हिंदी कहानी परमात्मा के अनुदान एक गांव में संत ज्ञानेश्वर का कथावाचन चल रहा था। अपनी कथा में संत ज्ञानेश्वर समझा रहे थे कि ईश्वर ज्ञान, विवेक, शक्ति और भक्ति हमेशा सत पात्रों को ही देता है। संत के ऐसा कहने पर कथा सुनने आई गांव की ही एक महिला ने कहा मैं आपसे असहमत हूं। वह बोली,” अगर सबकुछ सत पात्रों को ही मिलना है, तो फिर इसमें भगवान की क्या विशेषता रही? उसकी नजरों में तो सब समान होने चाहिए। उसे तो सबको समान अनुदान देना चाहिए।”

संत ने उस समय महिला को कोई जवाब नहीं दिया। कथा समाप्त हो गई। वह महिला और बाकी लोग वहां से चले गए। संत ज्ञानेश्वर ने अगले दिन सुबह ही मोहल्ले के एक मूर्ख व्यक्ति को बुला कर कहा अमुक स्त्री के पास जाकर उस के आभूषण मांग लाओ। वह व्यक्ति वहां से चला गया और स्त्री के पास जाकर उससे उसके आभूषण मांगने लगा।

उस महिला ने उसे आभूषण देने से मना कर दिया और वहां से झीड़क कर भगा दिया। थोड़ी देर बाद संत ज्ञानेश्वर उस महिला के पास पहुंचे और बोले, “आप कुछ समय के लिए अपने आभूषण मुझे दे दे। आवश्यक काम खत्म करके मैं उसे आपको वापस लौटा दूंगा।”

महिला ने तुरंत ही अपना संदूक खोला और बिना कोई प्रश्न पूछे अपने आभूषण संत को सौंप दिए। उन आभूषणों को हाथ में लेकर संत ने महिला से पूछा, “अभी कुछ देर पहले एक व्यक्ति आपके पास आभूषण लेने आया था। आपने उसे आभूषण देने से मना क्यों कर दिया।”

महिला ने कहा, “मैं उस मूर्ख व्यक्ति को कैसे अपने मूल्यवान आभूषण दे सकती थी।”

संत ज्ञानेश्वर मुस्कुराए और बोले, “जब आप अपने इन सामान्य से आभूषणों को बिना सोचे विचारे किसी कुपात्र को नहीं दे सकती, तो सोचिए फिर परमात्मा अपने अनुदानों को अपात्रों को कैसे सौंप सकता है? ईश्वर तो बारंबार इस बात की परीक्षा करता है कि जिसको अनुदान दिया जा रहा है वह इस का पात्र भी है अथवा नहीं!”

महिला को संत ज्ञानेश्वर की बात समझ में आ गई। उसने उन्हें धन्यवाद कहा। संत ज्ञानेश्वर अपनी शिक्षा देकर वहां से चले गए।

शिक्षक और 9 की टेबल

समाज की सोच – इंसान चाहे 100 सही काम करे लेकिन वो हमेशा किसी एक गलती से भी छोटा होता है।
एक बार की बात है एक स्कूल के शिक्षक ने बोर्ड पर 9 का टेबल लिखना शुरू किया।
9 × 1 = 9
9 × 2 = 18
9 × 3 = 27
9 × 4 = 36
9 × 5 = 45
9 × 6 = 54
9 × 7 = 63
9 × 8 = 72
9 × 9 = 83
उस शिक्षक ने जान बूझकर उस 9 के टेबल मे गड़बड़ी की,

लिखने के बाद बच्चों को देखा तो बच्चे शिक्षक पर जोड़ जोड़ से हँस रहे थे क्यूंकि आखिरी लाइन जो 9 × 9 वाली थी वहाँ उस शिक्षक ने जान बूझकर गलती कर दी थी।

ये कहानी आपको बदल कर रख देगी।

उसके बाद उस शिक्षक ने बच्चों से कहा मैंने जो ये आखिरी वाली लाइन लिखी है वो किसी उद्देश्य से जान बूझकर गलत लिखी है मै आज तुमलोगों को अत्यंत जरूरी बात बताना चाहता हूँ।

सारे बच्चे चुपचाप बैठ गए उन्होने सोचा कि ये हमारे शिक्षक क्या महत्वपूर्ण सिखाना चाहते हैं।

शिक्षक ने बोला बच्चों ये दुनिया जो है वो तुम्हारे साथ भी ऐसा ही व्यवहार करेगी।

परेशानीयों का डट कर मुकाबला करो।

तुम यह देख सकते हो कि मैंने उपर 9 की टेबल को 8 तक बिल्कुल ठीक लिखा था जैसे ही मैंने 9 × 9 गलत लिखा, मेरे ऊपर सब हसने लगे।

मैंने 8 बार सही भी तो लिखा है लेकिन इस बात के लिए किसी ने मेरी तारीफ नहीं की लेकिन जैसे ही मैंने 1 बार गलत लिखा तुमलोग जोड़ जोड़ से हसने लग गए और मुझे नीचा भी दिखाया।

Moral – दुनिया कभी भी आपके लाख अच्छे कार्यों का तारीफ नहीं करेगी, परंतु आपके द्वारा किया गया एक गलत काम करने के बाद आपको नीचा जरूर दिखाएगी।

12 COMMENTS

- Advertisment -

Most Popular

new Police complaint against Ekta Kapoor Triple X-2 web series

मशहूर निर्माता एकता कपूर के ओटीटी प्लेटफॉर्म ऑल्ट बालाजी पर एक वेब सीरीज के प्रसारण के जरिये अश्लीलता फैलाने, धार्मिक भावनाओं को ठेस...

Malaika Arora Yoga Video viral on social media

46 साल की मलाइका अरोड़ा अपनी फिटनेस के कारण भी जानी जाती हैं। योग, जिम करते हुए उनकी फोटोज खूब वायरल होती है।...

Jhansi Police Tweet In Praising Actor Sonu Sood For Helping Migrant Laborer To Reach Their Home Safely During Corona Lockdown – झांसी पुलिस बोली

प्रवासी मजदूरों की मदद को लेकर सुर्खियों में छाए बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद की झांसी पुलिस ने शुक्रवार को तारीफ की। झांसी पुलिस...

VirushkaDivorce Trends On Twitter As Trolls virat kohli and anushka sharma fans share funny memes

शनिवार को सभी तब चौंक गए जब ट्विटर पर #VirushkaDivorce ट्रेंड करने लगा। इसकी शुरुआत तब हुई जब एक यूजर ने साल 2016...

Recent Comments

High Quality Dofollow Backlinks Kaise bnaye on Blogger vs WordPress kaunsa jyada best hai (hindi 2019 )
Jio Celebration Pack - अब यूजर्स को फ्री 2GB 4G डेली डेटा ऑफर मिलेगा on 7 Best Free SEO Tools || Free SEO Tools जो आपको गूगल के टॉप #1 पे रैंक करने में मदद करेंगे
jio Phone 3 लाया बहुत ही खास ऑफर ,इस महीने से होगी बुकिंग जल्दी करिए on PBN Backlinks क्या है ? powerfull PBN Backlinks कैसे बनाएं ?